विरह वेदनातिरेक

தாம்வீழ்வார் தம்வீழப் பெற்றவர் பெற்றாரே
காமத்துக் காழில் கனி.   (1191)

जिससे अपना प्यार है, यदि पाती वह प्यार ।
बीज रहित फल प्रेम का, पाती है निर्धार ॥

வாழ்வார்க்கு வானம் பயந்தற்றால் வீழ்வார்க்கு
வீழ்வார் அளிக்கும் அளி.   (1192)

जीवों का करता जलद, ज्यों जल दे कर क्षेम ।
प्राण-पियारे का रहा, प्राण-प्रिया से प्रेम ॥

வீழுநர் வீழப் படுவார்க்கு அமையுமே
வாழுநம் என்னும் செருக்கு.   (1193)

जिस नारी को प्राप्त है, प्राण-नाथ का प्यार ।
‘जीऊँगी’ यों गर्व का, उसको है अधिकार ॥

வீழப் படுவார் கெழீஇயிலர் தாம்வீழ்வார்
வீழப் படாஅர் எனின்.   (1194)

उसकी प्रिया बनी नहीं, जो उसका है प्रेय ।
तो बहुमान्या नारि भी, पुण्यवति नहिं ज्ञेय ॥

நாம்காதல் கொண்டார் நமக்கெவன் செய்பவோ
தாம்காதல் கொள்ளாக் கடை.   (1195)

प्यार किया मैंने जिन्हें, यदि खुद किया न प्यार ।
तो उनसे क्या हो सके, मेरा कुछ उपकार ॥

ஒருதலையான் இன்னாது காமம்காப் போல
இருதலை யானும் இனிது.   (1196)

प्रेम एक-तरफ़ा रहे, तो है दुखद अपार ।
दोय तरफ़ हो तो सुखद, ज्यों डंडी पर भार ॥

பருவரலும் பைதலும் காணான்கொல் காமன்
ஒருவர்கண் நின்றொழுகு வான்.   (1197)

जम कर सक्रिय एक में, रहा मदन बेदर्द ।
क्या वह समझेगा नहीं, मेरा दुःख व दर्द ॥

வீழ்வாரின் இன்சொல் பெறாஅது உலகத்து
வாழ்வாரின் வன்கணார் இல்.   (1198)

प्रियतम से पाये बिना, उसका मधुमय बैन ।
जग में जीती स्त्री सदृश, कोई निष्ठुर है न ॥

நசைஇயார் நல்கார் எனினும் அவர்மாட்டு
இசையும் இனிய செவிக்கு.   (1199)

प्रेम रहित प्रियतम रहे, यद्यपि है यह ज्ञात ।
कर्ण मधुर ही जो मिले, उनकी कोई बात ॥

உறாஅர்க்கு உறுநோய் உரைப்பாய் கடலைச்
செறாஅஅய் வாழிய நெஞ்சு.   (1200)

प्रेम हीन से कठिन रुज, कहने को तैयार ।
रे दिल ! तू चिरजीव रह ! सुखा समुद्र अपार ॥