अन्तवैंर

நிழல்நீரும் இன்னாத இன்னா தமர்நீரும்
இன்னாவாம் இன்னா செயின்.   (881)

छाया, जल भी हैं बुरे, जब करते हैं हानि ।
स्वजन-भाव भी हैं बुरे, यदि देते हैं ग्लानि ॥

வாள்போல பகைவரை அஞ்சற்க அஞ்சுக
கேள்போல் பகைவர் தொடர்பு.   (882)

डरना मत उस शत्रु से, जो है खड्ग समान ।
डर उस रिपु के मेल से, जो है मित्र समान ॥

உட்பகை அஞ்சித்தற் காக்க உலைவிடத்து
மட்பகையின் மாணத் தெறும்.   (883)

बचना अन्त: शत्रु से, उनके खा कर त्रास ।
मिट्टी-छेदक ज्यों करें, थका देख वे नाश ॥

மனமாணா உட்பகை தோன்றின் இனமாணா
ஏதம் பலவும் தரும்.   (884)

मन में बिना लगाव के, यदि हो अन्तवैंर ।
बन्धु-भेद-कारक कई, करता है वह गैर ॥

உறல்முறையான் உட்பகை தோன்றின் இறல்முறையான்
ஏதம் பலவும் தரும்.   (885)

यदि होता बन्धुत्व में, कोई अन्तवैंर ।
मृत्युजनक जो सो कई, करता है वह गैर ॥

ஒன்றாமை ஒன்றியார் கட்படின் எஞ்ஞான்றும்
பொன்றாமை ஒன்றல் அரிது.   (886)

आश्रित लोगों से निजी, यदि होता है वैर ।
सदा असंभव तो रहा, बचना नाश-बगैर ॥

செப்பின் புணர்ச்சிபோல் கூடினும் கூடாதே
உட்பகை உற்ற குடி.   (887)

डब्बा-ढक्कन योग सम, रहने पर भी मेल ।
गृह में अन्तवैंर हो, तो होगा नहिं मेल ॥

அரம்பொருத பொன்போலத் தேயும் உரம்பொருது
உட்பகை உற்ற குடி.   (888)

रेती से घिस कर यथा, लोहा होता क्षीण ।
गृह भी अन्तवैंर से, होता है बलहीन ॥

எட்பக வன்ன சிறுமைத்தே ஆயினும்
உட்பகை உள்ளதாங் கேடு.   (889)

अति छोटा ही क्यों न हो, तिल में यथा दरार ।
फिर भी अन्तवैंर तो, है ही विनाशकार ॥

உடம்பாடு இலாதவர் வாழ்க்கை குடங்கருள்
பாம்போடு உடனுறைந் தற்று.   (890)

जिनसे मन मिलता नहीं, जीवन उनके संग ।
एक झोंपड़ी में यथा, रहना सहित भुजंग ॥