मान

புல்லா திராஅப் புலத்தை அவருறும்
அல்லல்நோய் காண்கம் சிறிது.   (1301)

आलिंगन करना नहीं, ठहरो करके मान ।
देखें हम उनको ज़रा, सहते ताप अमान ॥

உப்பமைந் தற்றால் புலவி அதுசிறிது
மிக்கற்றால் நீள விடல்.   (1302)

ज्यों भोजन में नमक हो, प्रणय-कलह त्यों जान ।
ज़रा बढ़ाओ तो उसे, ज्यादा नमक समान ॥

அலந்தாரை அல்லல்நோய் செய்தற்றால் தம்மைப்
புலந்தாரைப் புல்லா விடல்.   (1303)

अगर मना कर ना मिलो, जो करती है मान ।
तो वह, दुखिया को यथा, देना दुख महान ॥

ஊடி யவரை உணராமை வாடிய
வள்ளி முதலரிந் தற்று.   (1304)

उसे मनाया यदि नहीं, जो कर बैठी मान ।
सूखी वल्ली का यथा, मूल काटना जान ॥

நலத்தகை நல்லவர்க் கேஎர் புலத்தகை
பூவன்ன கண்ணார் அகத்து.   (1305)

कुसुम-नेत्रयुत प्रियतमा, रूठे अगर यथेष्ट ।
शोभा देती सुजन को, जिनके गुण हैं श्रेष्ठ ॥

துனியும் புலவியும் இல்லாயின் காமம்
கனியும் கருக்காயும் அற்று.   (1306)

प्रणय-कलह यदि नहिं हुआ, और न थोड़ा मान ।
कच्चा या अति पक्व सम, काम-भोग-फल जान ॥

ஊடலின் உண்டாங்கோர் துன்பம் புணர்வது
நீடுவ தன்றுகொல் என்று.   (1307)

‘क्या न बढ़ेगा मिलन-सुख’, यों है शंका-भाव ।
प्रणय-कलह में इसलिये, रहता दुखद स्वभाव ॥

நோதல் எவன்மற்று நொந்தாரென் றஃதறியும்
காதலர் இல்லா வழி.   (1308)

‘पीड़ित है’ यों समझती, प्रिया नहीं रह जाय ।
तो सहने से वेदना, क्या ही फल हो जाय ॥

நீரும் நிழல தினிதே புலவியும்
வீழுநர் கண்ணே இனிது.   (1309)

छाया के नीचे रहा, तो है सुमधुर नीर ।
प्रिय से हो तो मधुर है, प्रणय कलह-तासीर ॥

ஊடல் உணங்க விடுவாரோ டென்னெஞ்சம்
கூடுவேம் என்ப தவா.   (1310)

सूख गयी जो मान से, और रही बिन छोह ।
मिलनेच्छा उससे रहा, मेरे दिल का मोह ॥