स्वप्नावस्था का वर्णन

காதலர் தூதொடு வந்த கனவினுக்கு
யாதுசெய் வேன்கொல் விருந்து.   (1211)

प्रियतम का जो दूत बन, आया स्वप्नाकार ।
उसका मैं कैसे करूँ, युग्य अतिथि-सत्कार ॥

கயலுண்கண் யானிரப்பத் துஞ்சிற் கலந்தார்க்கு
உயலுண்மை சாற்றுவேன் மன்.   (1212)

यदि सुन मेरी प्रार्थना, दृग हों निद्रावान ।
दुख सह बचने की कथा, प्रिय से कहूँ बखान ॥

நனவினால் நல்கா தவரைக் கனவினால்
காண்டலின் உண்டென் உயிர்.   (1213)

जाग्रत रहने पर कृपा, करते नहीं सुजान ।
दर्शन देते स्वप्न में, तब तो रखती प्राण ॥

கனவினான் உண்டாகும் காமம் நனவினான்
நல்காரை நாடித் தரற்கு.   (1214)

जाग्रति में करते नहीं, नाथ कृपा कर योग ।
खोज स्वप्न ने ला दिया, सो उसमें सुख-भोग ॥

நனவினால் கண்டதூஉம் ஆங்கே கனவுந்தான்
கண்ட பொழுதே இனிது.   (1215)

आँखों में जब तक रहे, जाग्रति में सुख-भोग ।
सपने में भी सुख रहा, जब तक दर्शन-योग ॥

நனவென ஒன்றில்லை ஆயின் கனவினால்
காதலர் நீங்கலர் மன்.   (1216)

यदि न रहे यह जागरण, तो मेरे प्रिय नाथ ।
जो आते हैं स्वप्न में, छोड़ न जावें साथ ॥

நனவினால் நல்காக் கொடியார் கனவனால்
என்எம்மைப் பீழிப் பது.   (1217)

कृपा न कर जागरण में, निष्ठुर रहे सुजन ।
पीड़ित करते किसलिये, मुझे स्वप्न में प्राण ॥

துஞ்சுங்கால் தோள்மேலர் ஆகி விழிக்குங்கால்
நெஞ்சத்தர் ஆவர் விரைந்து.   (1218)

गले लगाते नींद में, पर जब पडती जाग ।
तब दिल के अन्दर सुजन, झट जाते हैं भाग ॥

நனவினால் நல்காரை நோவர் கனவினால்
காதலர்க் காணா தவர்.   (1219)

जाग्रति में अप्राप्त को, कोसेंगी वे वाम ।
जिनके प्रिय ने स्वप्न में, मिल न दिया आराम ॥

நனவினால் நம்நீத்தார் என்பர் கனவினால்
காணார்கொல் இவ்வூ ரவர்.   (1220)

यों कहते प्रिय का मुझे, जाग्रति में नहिं योग ।
सपने में ना देखते, क्या इस पुर के लोग ॥