सौंदर्य की पीड़ा

அணங்குகொல் ஆய்மயில் கொல்லோ கனங்குழை
மாதர்கொல் மாலும் என் நெஞ்சு.   (1081)

क्या यह है देवांगना, या सुविशेष मयूर ।
या नारी कुंड़ल-सजी, मन है भ्रम में चूर ॥

நோக்கினாள் நோக்கெதிர் நோக்குதல் தாக்கணங்கு
தானைக்கொண் டன்ன துடைத்து.   (1082)

दृष्टि मिलाना सुतनु का, होते दृष्टि-निपान ।
हो कर खुद चँडी यथा, चढ़ आये दल साथ ॥

பண்டறியேன் கூற்றென் பதனை இனியறிந்தேன்
பெண்டகையால் பேரமர்க் கட்டு.   (1083)

पहले देखा है नहीं, अब देखा यम कौन ।
लडते विशाल नेत्रयुत, वह है स्त्री-गुण-भौन ॥

கண்டார் உயிருண்ணும் தோற்றத்தால் பெண்டகைப்
பேதைக்கு அமர்த்தன கண்.   (1084)

मुग्धा इस स्त्री-रत्न के, दिखी दृगों की रीत ।
खाते दर्शक-प्राण हैं, यों है गुण विपरीत ॥

கூற்றமோ கண்ணோ பிணையோ மடவரல்
நோக்கமிம் மூன்றும் உடைத்து.   (1085)

क्या यम है, या आँख है, या है मृगी सुरंग ।
इस मुग्धा की दृष्टि में, है तीनों का ढंग ॥

கொடும்புருவம் கோடா மறைப்பின் நடுங்கஞர்
செய்யல மன்இவள் கண்.   (1086)

ऋजु हो टेढ़ी भृकुटियाँ, मना करें दे छाँह ।
तो इसकी आँखें मुझे, हिला, न लेंगी आह ॥

கடாஅக் களிற்றின்மேற் கட்படாம் மாதர்
படாஅ முலைமேல் துகில்.   (1087)

अनत कुचों पर नारि के, पड़ा रहा जो पाट ।
मद-गज के दृग ढ़ांकता, मुख-पट सम वह ठाट ॥

ஒண்ணுதற் கோஒ உடைந்ததே ஞாட்பினுள்
நண்ணாரும் உட்குமென் பீடு.   (1088)

उज्जवल माथे से अहो, गयी शक्ति वह रीत ।
भिड़े बिना रण-भूमि में, जिससे रिपु हों भीत ॥

பிணையேர் மடநோக்கும் நாணும் உடையாட்கு
அணியெவனோ ஏதில தந்து.   (1089)

सरल दृष्टि हरिणी सदृश, औ’ रखती जो लाज ।
उसके हित गहने बना, पहनाना क्या काज ॥

உண்டார்கண் அல்லது அடுநறாக் காமம்போல்
கண்டார் மகிழ்செய்தல் இன்று.   (1090)

हर्षक है केवल उसे, जो करता है पान ।
दर्शक को हर्षक नहीं, मधु तो काम समान ॥