उत्साहयुक्तता

உடையர் எனப்படுவது ஊக்கம் அஃதில்லார்
உடையது உடையரோ மற்று.   (591)

धनी कहाने योग्य है, यदि हो धन उत्साह ।
उसके बिन यदि अन्य धन, हो तो क्या परवाह ॥

உள்ளம் உடைமை உடைமை பொருளுடைமை
நில்லாது நீங்கி விடும்.   (592)

एक स्वत्व उत्साह है, स्थायी स्वत्व ज़रूर ।
अस्थायी रह अन्य धन, हो जायेंगे दूर ॥

ஆக்கம் இழந்தேமென்று அல்லாவார் ஊக்கம்
ஒருவந்தம் கைத்துடை யார்.   (593)

रहता जिनके हाथ में, उमंग का स्थिर वित्त ।
‘वित्त गया’ कहते हुए, ना हों अधीर-चित्त ॥

ஆக்கம் அதர்வினாய்ச் செல்லும் அசைவிலா
ஊக்க முடையா னுழை.   (594)

जिस उत्साही पुरुष का, अचल रहे उत्साह ।
वित्त चले उसके यहाँ, पूछ-ताछ कर राह ॥

வெள்ளத் தனைய மலர்நீட்டம் மாந்தர்தம்
உள்ளத் தனையது உயர்வு.   (595)

जलज-नाल उतनी बड़ी, जितनी जल की थाह ।
नर होता उतना बड़ा, जितना हो उत्साह ॥

உள்ளுவ தெல்லாம் உயர்வுள்ளல் மற்றது
தள்ளினுந் தள்ளாமை நீர்த்து.   (596)

जो विचार मन में उठें, सब हों उच्च विचार ।
यद्यपि सिद्ध न उच्चता, विफल न वे सुविचार ॥

சிதைவிடத்து ஒல்கார் உரவோர் புதையம்பிற்
பட்டுப்பா டூன்றுங் களிறு.   (597)

दुर्गति में भी उद्यमी, होते नहीं अधीर ।
घायल भी शर-राशि से, गज रहता है धीर ॥

உள்ளம் இலாதவர் எய்தார் உலகத்து
வள்ளியம் என்னுஞ் செருக்கு.   (598)

‘हम तो हैं इस जगत में, दानी महा धुरीण’ ।
कर सकते नहिं गर्व यों, जो हैं जोश-विहीन ॥

பரியது கூர்ங்கோட்டது ஆயினும் யானை
வெரூஉம் புலிதாக் குறின்.   (599)

यद्यपि विशालकाय है, तथा तेज़ हैं दांत ।
डरता है गज बाघ से, होने पर आक्रांत ॥

உரமொருவற்கு உள்ள வெறுக்கைஅஃ தில்லார்
மரம்மக்க ளாதலே வேறு.   (600)

सच्ची शक्ति मनुष्य की, है उत्साह अपार ।
उसके बिन नर वृक्ष सम, केवल नर आकार ॥