नेत्रों का आतुरता से क

கண்தாம் கலுழ்வ தெவன்கொலோ தண்டாநோய்
தாம்காட்ட யாம்கண் டது.   (1171)

अब राते हैं क्यों नयन, स्वयं दिखा आराध्य ।
मुझे हुआ यह रोग है, जो बन गया असाध्य ॥

தெரிந்துணரா நோக்கிய உண்கண் பரிந்துணராப்
பைதல் உழப்பது எவன்.   (1172)

सोचे समझे बिन नयन, प्रिय को उस दिन देख ।
अब क्यों होते हैं व्यक्ति, रखते कुछ न विवेक ॥

கதுமெனத் தாநோக்கித் தாமே கலுழும்
இதுநகத் தக்க துடைத்து.   (1173)

नयनों ने देखा स्वयं, आतुरता के साथ ।
अब जो रोते हैं स्वयं, है हास्यास्पद बात ॥

பெயலாற்றா நீருலந்த உண்கண் உயலாற்றா
உய்வில்நோய் என்கண் நிறுத்து.   (1174)

मुझमें रुज उत्पन्न कर, असाध्य औ’ अनिवार्य ।
सूख गये, ना कर सके, दृग रोने का कार्य ॥

படலாற்றா பைதல் உழக்கும் கடலாற்றாக்
காமநோய் செய்தஎன் கண்.   (1175)

काम-रोग उत्पन्न कर, सागर से विस्तार ।
नींद न पा मेरे नयन, सहते दुःख अपार ॥

ஓஒ இனிதே எமக்கிந்நோய் செய்தகண்
தாஅம் இதற்பட் டது.   (1176)

ओहो यह अति सुखद है, मुझको दुख में डाल ।
अब ये दृग सहते स्वयं, यह दुख, हो बेहाल ॥

உழந்துழந் துள்நீர் அறுக விழைந்திழைந்து
வேண்டி அவர்க்கண்ட கண்.   (1177)

दिल पसीज, थे देखते, सदा उन्हें दृग सक्त ।
सूख जाय दृग-स्रोत अब, सह सह पीड़ा सख्त ॥

பேணாது பெட்டார் உளர்மன்னோ மற்றவர்க்
காணாது அமைவில கண்.   (1178)

वचन मात्र से प्रेम कर, दिल से किया न प्रेम ।
उस जन को देखे बिना, नेत्रों को नहिं क्षेम ॥

வாராக்கால் துஞ்சா வரின்துஞ்சா ஆயிடை
ஆரஞர் உற்றன கண்.   (1179)

ना आवें तो नींद नहिं, आवें, नींद न आय ।
दोनों हालों में नयन, सहते हैं अति हाय ॥

மறைபெறல் ஊரார்க்கு அரிதன்றால் எம்போல்
அறைபறை கண்ணார் அகத்து.   (1180)

मेरे सम जिनके नयन, पिटते ढोल समान ।
उससे पुरजन को नहीं, कठिन भेद का ज्ञान ॥