सुशासन

ஓர்ந்துகண் ணோடாது இறைபுரிந்து யார்மாட்டும்
தேர்ந்துசெய் வஃதே முறை.   (541)

सबसे निर्दाक्षिण्य हो, सोच दोष की रीती ।
उचित दण्ड़ निष्पक्ष रह, देना ही है नीति ॥

வானோக்கி வாழும் உலகெல்லாம் மன்னவன்
கோல்நோக்கி வாழுங் குடி.   (542)

जीवित हैं ज्यों जीव सब, ताक मेघ की ओर ।
प्रजा ताक कर जी रही, राजदण्ड की ओर ॥

அந்தணர் நூற்கும் அறத்திற்கும் ஆதியாய்
நின்றது மன்னவன் கோல்.   (543)

ब्राहमण-पोषित वेद औ’, उसमें प्रस्तुत धर्म ।
इनका स्थिर आधार है, राजदण्ड का धर्म ॥

குடிதழீஇக் கோலோச்சும் மாநில மன்னன்
அடிதழீஇ நிற்கும் உலகு.   (544)

प्रजा-पाल जो हो रहा, ढोता शासन-भार ।
पाँव पकड़ उस भूप के, टिकता है संसार ॥

இயல்புளிக் கோலோச்சும் மன்னவன் நாட்ட
பெயலும் விளையுளும் தொக்கு.   (545)

है जिस नृप के देश में, शासन सुनीतिपूर्ण ।
साथ मौसिमी वृष्टि के, रहे उपज भी पूर्ण ॥

வேலன்று வென்றி தருவது மன்னவன்
கோலதூஉங் கோடா தெனின்.   (546)

रजा को भाला नहीं, जो देता है जीत ।
राजदण्ड ही दे विजय, यदि उसमें है सीध ॥

இறைகாக்கும் வையகம் எல்லாம் அவனை
முறைகாக்கும் முட்டாச் செயின்.   (547)

रक्षा सारे जगत की, करता है नरनाथ ।
उसका रक्षक नीति है, यदि वह चले अबाध ॥

எண்பதத்தான் ஓரா முறைசெய்யா மன்னவன்
தண்பதத்தான் தானே கெடும்.   (548)

न्याय करे नहिं सोच कर, तथा भेंट भी कष्ट ।
ऐसा नृप हो कर पतित, होता खुद ही नष्ट ॥

குடிபுறங் காத்தோம்பிக் குற்றம் கடிதல்
வடுவன்று வேந்தன் தொழில்.   (549)

जन-रक्षण कर शत्रु से, करता पालन-कर्म ।
दोषी को दे दण्ड तो, दोष न, पर नृप-धर्म ॥

கொலையிற் கொடியாரை வேந்தொறுத்தல் பைங்கூழ்
களைகட் டதனொடு நேர்.   (550)

यथा निराता खेत को, रखने फसल किसान ।
मृत्यु-दण्ड नृप का उन्हें, जो हैं दुष्ट महान ॥