हृदय से रुठना

அவர்நெஞ்சு அவர்க்காதல் கண்டும் எவன்நெஞ்சே
நீஎமக்கு ஆகா தது.   (1291)

उनका दिल उनका रहा, देते उनका साथ ।
उसे देख भी, हृदय तू, क्यों नहिं मेरे साथ ॥

உறாஅ தவர்க்கண்ட கண்ணும் அவரைச்
செறாஅரெனச் சேறியென் நெஞ்சு.   (1292)

प्रिय को निर्मम देख भी, ‘वे नहिं हो नाराज़’ ।
यों विचार कर तू चला, रे दिल, उनके पास ॥

கெட்டார்க்கு நட்டார்இல் என்பதோ நெஞ்சேநீ
பெட்டாங்கு அவர்பின் செலல்.   (1293)

रे दिल, जो हैं कष्ट में, उनके हैं नहिं इष्ट ।
सो क्या उनका पिछलगा, बना यथा निज इष्ट ॥

இனிஅன்ன நின்னொடு சூழ்வார்யார் நெஞ்சே
துனிசெய்து துவ்வாய்காண் மற்று.   (1294)

रे दिल तू तो रूठ कर, बाद न ले सुख-स्वाद ।
तुझसे कौन करे अभी, तत्सम्बन्धी बात ॥

பெறாஅமை அஞ்சும் பெறின்பிரிவு அஞ்சும்
அறாஅ இடும்பைத்தென் நெஞ்சு.   (1295)

न मिल तो भय, या मिले, तो भेतव्य वियोग ।
मेरा दिल है चिर दुखी, वियोग या संयोग ॥

தனியே இருந்து நினைத்தக்கால் என்னைத்
தினிய இருந்ததென் நெஞ்சு.   (1296)

विरह दशा में अलग रह, जब करती थी याद ।
मानों मेरा दिल मुझे, खाता था रह साथ ॥

நாணும் மறந்தேன் அவர்மறக் கல்லாஎன்
மாணா மடநெஞ்சிற் பட்டு.   (1297)

मूढ हृदय बहुमति रहित, नहीं भूलता नाथ ।
मैं भूली निज लाज भी, पड़ कर इसके साथ ॥

எள்ளின் இளிவாம்என்று எண்ணி அவர்திறம்
உள்ளும் உயிர்க்காதல் நெஞ்சு.   (1298)

नाथ-उपेक्षा निंद्य है, यों करके सुविचार ।
करता उनका गुण-स्मरण, यह दिल जीवन-प्यार ॥

துன்பத்திற்கு யாரே துணையாவார் தாமுடைய
நெஞ்சந் துணையல் வழி.   (1299)

संकट होने पर मदद, कौन करेगा हाय ।
जब कि निजी दिल आपना, करता नहीं सहाय ॥

தஞ்சம் தமரல்லர் ஏதிலார் தாமுடைய
நெஞ்சம் தமரல் வழி.   (1300)

बन्धु बनें नहिं अन्य जन, है यह सहज, विचार ।
जब अपना दिल ही नहीं, बनता नातेदार ॥