सुविचारित कार्यकुशलता

அழிவதூஉம் ஆவதூஉம் ஆகி வழிபயக்கும்
ஊதியமும் சூழ்ந்து செயல்.   (461)

कर विचार व्यय-आय का, करना लाभ-विचार ।
फिर हो प्रवृत्त कार्य में, करके सोच-विचार ॥

தெரிந்த இனத்தொடு தேர்ந்தெண்ணிச் செய்வார்க்கு
அரும்பொருள் யாதொன்றும் இல்.   (462)

आप्तों से कर मंत्रणा, करता स्वयं विचार ।
उस कर्मी को है नहीं, कुछ भी असाध्य कार ॥

ஆக்கம் கருதி முதலிழக்கும் செய்வினை
ஊக்கார் அறிவுடை யார்.   (463)

कितना भावी लाभ हो, इसपर दे कर ध्यान ।
पूँजी-नाशक कर्म तो, करते नहिं मतिमान ॥

தெளிவி லதனைத் தொடங்கார் இளிவென்னும்
ஏதப்பாடு அஞ்சு பவர்.   (464)

अपयश के आरोप से, जो होते हैं भीत ।
शुरू न करते कर्म वे, स्पष्ट न जिसकी रीत ॥

வகையறச் சூழா தெழுதல் பகைவரைப்
பாத்திப் படுப்பதோ ராறு.   (465)

टूट पडे जो शत्रु पर, बिन सोचे सब मर्म ।
शत्रु-गुल्म हित तो बने, क्यारी ज्यों वह कर्म ॥

செய்தக்க அல்ல செயக்கெடும் செய்தக்க
செய்யாமை யானுங் கெடும்   (466)

करता अनुचित कर्म तो, होता है नर नष्ट ।
उचित कर्म को छोड़ता, तो भी होता नष्ट ॥

எண்ணித் துணிக கருமம் துணிந்தபின்
எண்ணுவம் என்பது இழுக்கு.   (467)

होना प्रवृत्त कर्म में, करके सोच-विचार ।
‘हो कर प्रवृत्त सोच लें’, है यह गलत विचार ॥

ஆற்றின் வருந்தா வருத்தம் பலர்நின்று
போற்றினும் பொத்துப் படும்.   (468)

जो भी साध्य उपाय बिन, किया जायगा यत्न ।
कई समर्थक क्यों न हों, खाली हो वह यत्न ॥

நன்றாற்ற லுள்ளுந் தவுறுண்டு அவரவர்
பண்பறிந் தாற்றாக் கடை.   (469)

बिन जाने गुण शत्रु का, यदि उसके अनुकूल ।
किया गया सदुपाय तो, उससे भी हो भूल ॥

எள்ளாத எண்ணிச் செயல்வேண்டும் தம்மோடு
கொள்ளாத கொள்ளாது உலகு.   (470)

अनुपयुक्त जो है तुम्हें, जग न करे स्वीकार ।
करना अनिंध कार्य ही, करके सोच-विचार ॥