विरह- वेदना

செல்லாமை உண்டேல் எனக்குரை மற்றுநின்
வல்வரவு வாழ்வார்க் குரை.   (1151)

अगर बिछुड़ जाते नहीं, मुझे जताओ नाथ ।
जो जियें उनसे कहो, झट फिरने की बात ॥

இன்கண் உடைத்தவர் பார்வல் பிரிவஞ்சும்
புன்கண் உடைத்தால் புணர்வு.   (1152)

पहले उनकी दृष्टि तो, देती थी सुख-भोग ।
विरह-भीति से दुखद है, अब उनका संयोग ॥

அரிதரோ தேற்றம் அறிவுடையார் கண்ணும்
பிரிவோ ரிடத்துண்மை யான்.   (1153)

विज्ञ नाथ का भी कभी, संभव रहा प्रवास ।
सो करना संभव नहीं, इनपर भी विश्वास ॥

அளித்தஞ்சல் என்றவர் நீப்பின் தெளித்தசொல்
தேறியார்க்கு உண்டோ தவறு.   (1154)

छोड़ चलेंगे यदि सदय, कर निर्भय का घोष ।
जो दृढ़-वच विश्वासिनी, उसका है क्या दोष ॥

ஓம்பின் அமைந்தார் பிரிவோம்பல் மற்றவர்
நீங்கின் அரிதால் புணர்வு.   (1155)

बचा सके तो यों बचा, जिससे चलें न नाथ ।
फिर मिलना संभव नहीं, छोड़ गये यदि साथ ॥

பிரிவுரைக்கும் வன்கண்ணர் ஆயின் அரிதவர்
நல்குவர் என்னும் நசை.   (1156)

विरह बताने तक हुए, इतने निठुर समर्थ ।
प्रेम करेंगे लौट कर, यह आशा है व्यर्थ ॥

துறைவன் துறந்தமை தூற்றாகொல் முன்கை
இறைஇறவா நின்ற வளை.   (1157)

नायक ने जो छोड़ कर, गमन किया, वह बात ।
वलय कलाई से पतित, क्या न करें विख्यात ॥

இன்னாது இனன்இல்ஊர் வாழ்தல் அதனினும்
இன்னாது இனியார்ப் பிரிவு.   (1158)

उस पुर में रहना दुखद, जहाँ न साथिन लोग ।
उससे भी बढ़ कर दुखद, प्रिय से रहा वियोग ॥

தொடிற்சுடின் அல்லது காமநோய் போல
விடிற்சுடல் ஆற்றுமோ தீ.   (1159)

छूने पर ही तो जला, सकती है, बस आग ।
काम-ज्वर सम वह जला, सकती क्या, कर त्याग ॥

அரிதாற்றி அல்லல்நோய் நீக்கிப் பிரிவாற்றிப்
பின்இருந்து வாழ்வார் பலர்.   (1160)

दुखद विरह को मानती, चिन्ता व्याधि न नेक ।
विरह-वेदना सहन कर, जीवित रहीं अनेक ॥