मैत्री की परख

நாடாது நட்டலிற் கேடில்லை நட்டபின்
வீடில்லை நட்பாள் பவர்க்கு.   (791)

जाँचे बिन मैत्री सदृश, हानि नहीं है अन्य ।
मित्र बना तो छूट नहीं, जिसमें वह सौजन्य ॥

ஆய்ந்தாய்ந்து கொள்ளாதான் கேண்மை கடைமுறை
தான்சாம் துயரம் தரும்.   (792)

परख परख कर जो नहीं, किया गया सौहार्द ।
मरण दिलाता अन्त में, यों, करता वह आर्त ॥

குணமும் குடிமையும் குற்றமும் குன்றா
இனனும் அறிந்தியாக்க நட்பு.   (793)

गुण को कुल को दोष को, जितने बन्धु अनल्प ।
उन सब को भी परख कर, कर मैत्री का कल्प ॥

குடிப்பிறந்து தன்கண் பழிநாணு வானைக்
கொடுத்தும் கொளல்வேண்டும் நட்பு.   (794)

जो लज्जित बदनाम से, रहते हैं कुलवान ।
कर लो उनकी मित्रता, कर भी मूल्य-प्रदान ॥

அழச்சொல்லி அல்லது இடித்து வழக்கறிய
வல்லார்நடபு ஆய்ந்து கொளல்.   (795)

झिड़की दे कर या रुला, समझावे व्यवहार ।
ऐसे समर्थ को परख, मैत्री कर स्वीकार ॥

கேட்டினும் உண்டோர் உறுதி கிளைஞரை
நீட்டி அளப்பதோர் கோல்.   (796)

होने पर भी विपद के, बड़ा लाभ है एक ।
मित्र-खेत सब मापता, मान-दंड वह एक ॥

ஊதியம் என்பது ஒருவற்குப் பேதையார்
கேண்மை ஒரீஇ விடல்.   (797)

मूर्खों के सौहार्द से, बच कर तजना साफ़ ।
इसको ही नर के लिये, कहा गया है लाभ ॥

உள்ளற்க உள்ளம் சிறுகுவ கொள்ளற்க
அல்லற்கண் ஆற்றறுப்பார் நட்பு.   (798)

ऐसे कर्म न सोचिये, जिनसे घटे उमंग ।
मित्र न हो जो दुख में, छोड़ जायगा संग ॥

கெடுங்காலைக் கைவிடுவார் கேண்மை அடுங்காலை
உள்ளினும் உள்ளஞ் சுடும்.   (799)

विपद समय जो बन्धु जन, साथ छोड़ दें आप ।
मरण समय भी वह स्मरण, दिल को देगा ताप ॥

மருவுக மாசற்றார் கேண்மைஒன் றீத்தும்
ஒருவுக ஒப்பிலார் நட்பு.   (800)

निर्मल चरित्रवान की, मैत्री लेना जोड़ ।
कुछ दे सही अयोग्य की, मैत्री देना छोड़ ॥