दान

வறியார்க்கொன்று ஈவதே ஈகைமற் றெல்லாம்
குறியெதிர்ப்பை நீர துடைத்து.   (221)

देना दान गरीब को, है यथार्थ में दान ।
प्रत्याशा प्रतिदान की, है अन्य में निदान ॥

நல்லாறு எனினும் கொளல்தீது மேலுலகம்
இல்லெனினும் ஈதலே நன்று.   (222)

मोक्ष-मार्ग ही क्यों न हो, दान- ग्रहण अश्रेय ।
यद्यपि मोक्ष नहीं मिले, दान-धर्म ही श्रेय ॥

இலனென்னும் எவ்வம் உரையாமை ஈதல்
குலனுடையான் கண்ணே யுள.   (223)

‘दीन-हीन हूँ’ ना कहे, करता है यों दान ।
केवल प्राप्य कुलीन में, ऐसी उत्तम बान ॥

இன்னாது இரக்கப் படுதல் இரந்தவர்
இன்முகங் காணும் அளவு.   (224)

याचित होने की दशा, तब तक रहे विषण्ण ।
जब तक याचक का वदन, होगा नहीं प्रसन्न ॥

ஆற்றுவார் ஆற்றல் பசிஆற்றல் அப்பசியை
மாற்றுவார் ஆற்றலின் பின்.   (225)

क्षुधा-नियन्त्रण जो रहा, तपोनिष्ठ की शक्ति ।
क्षुधा-निवारक शक्ति के, पीछे ही वह शक्ति ॥

அற்றார் அழிபசி தீர்த்தல் அஃதொருவன்
பெற்றான் பொருள்வைப் புழி.   (226)

नाशक-भूक दरिद्र की, कर मिटा कर दूर ।
वह धनिकों को चयन हित, बनता कोष ज़रूर ॥

பாத்தூண் மரீஇ யவனைப் பசியென்னும்
தீப்பிணி தீண்டல் அரிது.   (227)

भोजन को जो बाँट कर, किया करेगा भोग ।
उसे नहीं पीड़ित करे, क्षुधा भयंकर रोग ॥

ஈத்துவக்கும் இன்பம் அறியார்கொல் தாமுடைமை
வைத்திழக்கும் வன்க ணவர்.   (228)

धन-संग्रह कर खो रहा, जो निर्दय धनवान ।
दे कर होते हर्ष का, क्या उसको नहिं ज्ञान ॥

இரத்தலின் இன்னாது மன்ற நிரப்பிய
தாமே தமியர் உணல்.   (229)

स्वयं अकेले जीमना, पूर्ति के हेतु ।
याचन करने से अधिक, निश्चय दुख का हेतु ॥

சாதலின் இன்னாத தில்லை இனிததூஉம்
ஈதல் இயையாக் கடை.   (230)

मरने से बढ़ कर नहीं, दुख देने के अर्थ ।
सुखद वही जब दान में, देने को असमर्थ ॥