स्मरण में एकान्तता- दः

உள்ளினும் தீராப் பெருமகிழ் செய்தலால்
கள்ளினும் காமம் இனிது.   (1201)

स्मरण मात्र से दे सके, अक्षय परमानन्द ।
सो तो मधु से काम है, बढ़ कर मधुर अमन्द ॥

எனைத்தொனறு ஏனிதேகாண் காமம்தாம் வீழ்வார்
நினைப்ப வருவதொன்று ஏல்.   (1202)

दुख-नाशक उसका स्मरण, जिससे है निज प्रेम ।
जो सुखदायक ही रहा, किसी हाल में प्रेम ॥

நினைப்பவர் போன்று நினையார்கொல் தும்மல்
சினைப்பது போன்று கெடும்.   (1203)

छींका ही मैं चाहती, छींक गयी दब साथ ।
स्मरण किया ही चाहते, भूल गये क्या नाथ ॥

யாமும் உளேங்கொல் அவர்நெஞ்சத்து எந்நெஞ்சத்து
ஓஒ உளரே அவர்.   (1204)

उनके दिल में क्या रहा, मेरा भी आवास ।
मेरे दिल में, ओह, है, उनका सदा निवास ॥

தம்நெஞ்சத்து எம்மைக் கடிகொண்டார் நாணார்கொல்
எம்நெஞ்சத்து ஓவா வரல்.   (1205)

निज दिल से मुझको हटा, कर पहरे का साज़ ।
मेरे दिल आते सदा, आती क्या नहिं लाज ॥

மற்றியான் என்னுளேன் மன்னோ அவரொடியான்
உற்றநாள் உள்ள உளேன்.   (1206)

मिलन-दिवस की, प्रिय सहित, स्मृति से हूँ सप्राण ।
उस स्मृति के बिन किस तरह, रह सकती सप्राण ॥

மறப்பின் எவனாவன் மற்கொல் மறப்பறியேன்
உள்ளினும் உள்ளம் சுடும்.   (1207)

मुझे ज्ञात नहिं भूलना, हृदय जलाती याद ।
भूलूँगी मैं भी अगर, जाने क्या हो बाद ॥

எனைத்து நினைப்பினும் காயார் அனைத்தன்றோ
காதலர் செய்யும் சிறப்பு.   (1208)

कितनी ही स्मृति मैं करूँ, होते नहिं नाराज़ ।
करते हैं प्रिय नाथ तो, इतना बड़ा लिहाज़ ॥

விளியுமென் இன்னுயிர் வேறல்லம் என்பார்
அளியின்மை ஆற்ற நினைந்து.   (1209)

‘भिन्न न हम’, जिसने कहा, उसकी निर्दय बान ।
सोच सोच चलते बने, मेरे ये प्रिय प्राण ॥

விடாஅது சென்றாரைக் கண்ணினால் காணப்
படாஅதி வாழி மதி.   (1210)

बिछुड़ गये संबद्ध रह, जो मेरे प्रिय कांत ।
जब तक देख न लें नयन, डूब न, जय जय चांद ॥