संकेत समझना

இருநோக்கு இவளுண்கண் உள்ளது ஒருநோக்கு
நோய்நோக்கொன் றந்நோய் மருந்து.   (1091)

इसके कजरारे नयन, रखते हैं दो दृष्टि ।
रोग एक, उस रोग की, दवा दूसरी दृष्टि ॥

கண்களவு கொள்ளும் சிறுநோக்கம் காமத்தில்
செம்பாகம் அன்று பெரிது.   (1092)

आंख बचा कर देखना, तनिक मुझे क्षण काल ।
अर्द्ध नहीं, संयोग का, उससे अधिक रसाल ॥

நோக்கினாள் நோக்கி இறைஞ்சினாள் அஃதவள்
யாப்பினுள் அட்டிய நீர்.   (1093)

देखा, उसने देख कर, झुका लिया जो सीस ।
वह क्यारी में प्रेम की, देना था जल सींच ॥

யான்நோக்கும் காலை நிலன்நோக்கும் நோக்காக்கால்
தான்நோக்கி மெல்ல நகும்.   (1094)

मैं देखूँ तो डालती, दृष्टि भूमि की ओर ।
ना देखूँ तो देख खुद, मन में रही हिलोर ॥

குறிக்கொண்டு நோக்காமை அல்லால் ஒருகண்
சிறக்கணித்தாள் போல நகும்.   (1095)

सीधे वह नहीं देखती, यद्यपि मेरी ओर ।
सुकुचाती सी एक दृग, मन में रही हिलोर ॥

உறாஅ தவர்போல் சொலினும் செறாஅர்சொல்
ஒல்லை உணரப் படும்.   (1096)

यदुअपि वह अनभिज्ञ सी, करती है कटु बात ।
बात नहीं है क्रुद्ध की, झट होती यह ज्ञात ॥

செறாஅச் சிறுசொல்லும் செற்றார்போல் நோக்கும்
உறாஅர்போன்று உற்றார் குறிப்பு.   (1097)

रुष्ट दृष्टि है शत्रु सम, कटुक वचन सप्रीति ।
दिखना मानों अन्य जन, प्रेमी जन की रीति ॥

அசையியற்கு உண்டாண்டோர் ஏஎர்யான் நோக்கப்
பசையினள் பைய நகும்.   (1098)

मैं देखूँ तो, स्निग्ध हो, करे मंद वह हास ।
सुकुमारी में उस समय, एक रही छवी ख़ास ॥

ஏதிலார் போலப் பொதுநோக்கு நோக்குதல்
காதலார் கண்ணே உள.   (1099)

उदासीन हो देखना, मानों हो अनजान ।
प्रेमी जन के पास ही, रहती ऐसी बान ॥

கண்ணொடு கண்இணை நோக்கொக்கின் வாய்ச்சொற்கள்
என்ன பயனும் இல.   (1100)

नयन नयन मिल देखते, यदि होता है योग ।
वचनों का मूँह से कहे, है नहिं कुछ उपयोग ॥