संध्या- दर्शन से व्यथि

மாலையோ அல்லை மணந்தார் உயிருண்ணும்
வேலைநீ வாழி பொழுது.   (1221)

तेरी, सांझ, चिरायु हो, तू नहिं संध्याकाल ।
ब्याह हुओं की जान तू, लेता अन्तिम काल ।

புன்கண்ணை வாழி மருள்மாலை எம்கேள்போல்
வன்கண்ண தோநின் துணை.   (1222)

तेरी, सांझ, चिरायु हो, तू निष्प्रभ विभ्रान्त ।
मेरे प्रिय के सम निठुर, है क्या तेरा कान्त ॥

பனிஅரும்பிப் பைதல்கொள் மாலை துனிஅரும்பித்
துன்பம் வளர வரும்.   (1223)

कंपित संध्या निष्प्रभा, मुझको बना विरक्त ।
आती है देती मुझे, पीड़ा अति ही सख्त ॥

காதலர் இல்வழி மாலை கொலைக்களத்து
ஏதிலர் போல வரும்.   (1224)

वध करने के स्थान में, ज्यों आते जल्लाद ।
त्यों आती है सांझ भी, जब रहते नहिं नाथ ॥

காலைக்குச் செய்தநன்று என்கொல் எவன்கொல்யான்
மாலைக்குச் செய்த பகை.   (1225)

मैंने क्या कुछ कर दिया, प्रात: का उपकार ।
वैसे तो क्या कर दिया, संध्या का उपकार ॥

மாலைநோய் செய்தல் மணந்தார் அகலாத
காலை அறிந்த திலேன்.   (1226)

पीड़ित करना सांझ का, तब था मुझे न ज्ञात ।
गये नहीं थे बिछुड़कर, जब मेरे प्रिय नाथ ॥

காலை அரும்பிப் பகலெல்லாம் போதாகி
மாலை மலரும்இந் நோய்.   (1227)

काम-रोग तो सुबह को, पा कर कली-लिवास ।
दिन भर मुकुलित, शाम को, पाता पुष्य-विकास ॥

அழல்போலும் மாலைக்குத் தூதாகி ஆயன்
குழல்போலும் கொல்லும் படை.   (1228)

दूत बनी है सांझ का, जो है अनल समान ।
गोप-बाँसुरी है, वही, घातक भी सामान ॥

பதிமருண்டு பைதல் உழக்கும் மதிமருண்டு
மாலை படர்தரும் போழ்து.   (1229)

जब आवेगी सांझ बढ़, करके मति को घूर्ण ।
सारा पुर मति-घूर्ण हो, दुख से होवे चूर्ण ॥

பொருள்மாலை யாளரை உள்ளி மருள்மாலை
மாயும்என் மாயா உயிர்.   (1230)

भ्रांतिमती इस सांझ में, अब तक बचती जान ।
धन-ग्राहक का स्मरण कर, चली जायगी जान ॥