भयकारी कर्म न करना

தக்காங்கு நாடித் தலைச்செல்லா வண்ணத்தால்
ஒத்தாங்கு ஒறுப்பது வேந்து.   (561)

भूप वही जो दोष का, करके उचित विचार ।
योग्य दण्ड से इस तरह, फिर नहिं हो वह कार ॥

கடிதோச்சி மெல்ல எறிக நெடிதாக்கம்
நீங்காமை வேண்டு பவர்.   (562)

राजश्री चिरकाल यदि, रखना चाहें साथ ।
दिखा दण्ड की उग्रता, करना मृदु आघात ॥

வெருவந்த செய்தொழுகும் வெங்கோல னாயின்
ஒருவந்தம் ஒல்லைக் கெடும்.   (563)

यदि भयकारी कर्म कर, करे प्रजा को त्रस्त ।
निश्चय जल्दी कूर वह, हो जावेगा अस्त ॥

இறைகடியன் என்றுரைக்கும் இன்னாச்சொல் வேந்தன்
உறைகடுகி ஒல்லைக் கெடும்.   (564)

जिस नृप की दुष्कीर्ति हो, ‘राजा है अति क्रूर’ ।
अल्प आयु हो जल्द वह, होगा नष्ट ज़रूर ॥

அருஞ்செவ்வி இன்னா முகத்தான் பெருஞ்செல்வம்
பேஎய்கண் டன்னது உடைத்து.   (565)

अप्रसन्न जिसका वदन, भेंट नहीं आसान ।
ज्यों अपार धन भूत-वश, उसका धन भी जान ॥

கடுஞ்சொல்லன் கண்ணிலன் ஆயின் நெடுஞ்செல்வம்
நீடின்றி ஆங்கே கெடும்.   (566)

कटु भाषी यदि हो तथा, दया-दृष्टि से हीन ।
विपुल विभव नृप का मिटे, तत्क्षण हो स्थितिहीन ॥

கடுமொழியும் கையிகந்த தண்டமும் வேந்தன்
அடுமுரண் தேய்க்கும் அரம்.   (567)

कटु भाषण नृप का तथा, देना दण्ड अमान ।
शत्रु-दमन की शक्ति को, घिसती रेती जान ॥

இனத்தாற்றி எண்ணாத வேந்தன் சினத்தாற்றிச்
சீறிற் சிறுகும் திரு.   (568)

सचिवों की न सलाह ले, फिर होने पर कष्ट ।
आग-बबूला नृप हुआ, तो श्री होगी नष्ट ॥

செருவந்த போழ்திற் சிறைசெய்யா வேந்தன்
வெருவந்து வெய்து கெடும்.   (569)

दुर्ग बनाया यदि नहीं, रक्षा के अनुरूप ।
युद्ध छिड़ा तो हकबका, शीघ्र मिटे वह भूप ॥

கல்லார்ப் பிணிக்கும் கடுங்கோல் அதுவல்லது
இல்லை நிலக்குப் பொறை.   (570)

मूर्खों को मंत्री रखे, यदि शासक बहु क्रूर ।
उनसे औ’ नहिं भूमि को, भार रूप भरपूर ॥