लज्जा- त्याग- कथन

காமம் உழந்து வருந்தினார்க்கு ஏமம்
மடலல்லது இல்லை வலி.   (1131)

जो चखने पर प्रेम रस, सहें वेदना हाय ।
‘मडल’-सुरक्षा के बिना, उन्हें न सबल सहाय ॥

நோனா உடம்பும் உயிரும் மடலேறும்
நாணினை நீக்கி நிறுத்து.   (1132)

आत्मा और शरीर भी, सह न सके जो आग ।
चढ़े ‘मडल’ पर धैर्य से, करके लज्जा त्याग ॥

நாணொடு நல்லாண்மை பண்டுடையேன் இன்றுடையேன்
காமுற்றார் ஏறும் மடல்.   (1133)

पहले मेरे पास थीं, सुधीरता और लाज ।
कामी जन जिसपर चढ़ें, वही ‘मडल’ है आज ॥

காமக் கடும்புனல் உய்க்கும் நாணொடு
நல்லாண்மை என்னும் புணை.   (1134)

मेरी थी लज्जा तथा, सुधीरता की नाव ।
उसे बहा कर ले गया, भीषण काम-बहाव ॥

தொடலைக் குறுந்தொடி தந்தாள் மடலொடு
மாலை உழக்கும் துயர்.   (1135)

माला सम चूड़ी सजे, जिस बाला के हाथ ।
उसने संध्या-विरह-दुख, दिया ‘मडल’ के साथ ॥

மடலூர்தல் யாமத்தும் உள்ளுவேன் மன்ற
படல்ஒல்லா பேதைக்கென் கண்.   (1136)

कटती मुग्धा की वजह, आँखों में ही रात ।
अर्द्ध-रात्रि में भी ‘मडल’, आता ही है याद ॥

கடலன்ன காமம் உழந்தும் மடலேறாப்
பெண்ணின் பெருந்தக்க தில்.   (1137)

काम-वेदना जलधि में, रहती मग्न यथेष्ट ।
फिर भी ‘मडल’ न जो चढे, उस स्त्री से नहिं श्रेष्ठ ॥

நிறையரியர் மன்அளியர் என்னாது காமம்
மறையிறந்து மன்று படும்.   (1138)

संयम से रहती तथा, दया-पात्र अति वाम ।
यह न सोच कर छिप न रह, प्रकट हुआ है काम ॥

அறிகிலார் எல்லாரும் என்றேஎன் காமம்
மறுகின் மறுகும் மருண்டு.   (1139)

मेरा काम यही समझ, सबको वह नहिं ज्ञात ।
नगर-वीथि में घूमता, है मस्ती के साथ ॥

யாம்கண்ணின் காண நகுப அறிவில்லார்
யாம்பட்ட தாம்படா ஆறு.   (1140)

रहे भुक्त-भोगी नहीं, यथा चुकी हूँ भोग ।
हँसते मेरे देखते, बुद्धि हीन जो लोग ॥