इंगित से बोध

கரப்பினுங் கையிகந் தொல்லாநின் உண்கண்
உரைக்கல் உறுவதொன் றுண்டு.   (1271)

रखने पर भी कर छिपा, मर्यादा को पार ।
हैं तेरे ही नेत्र कुछ, कहने का तैयार ॥

கண்ணிறைந்த காரிகைக் காம்பேர்தோட் பேதைக்குப்
பெண்நிறைந்த நீர்மை பெரிது.   (1272)

छवि भरती है आँख भर, बाँस सदृश हैं स्कंध ।
मुग्धा में है मूढ़ता, नारी-सुलभ अमंद ॥

மணியில் திகழ்தரு நூல்போல் மடந்தை
அணியில் திகழ்வதொன்று உண்டு.   (1273)

अन्दर से ज्यों दीखता, माला-मणि में सूत ।
बाला छवि में दीखता, कुछ संकेत प्रसूत ॥

முகைமொக்குள் உள்ளது நாற்றம்போல் பேதை
நகைமொக்குள் உள்ளதொன் றுண்டு.   (1274)

बद कली में गंध ज्यों, रहती है हो बंद ।
त्यों इंगित इक बंद है, मुग्धा-स्मिति में मंद ॥

செறிதொடி செய்திறந்த கள்ளம் உறுதுயர்
தீர்க்கும் மருந்தொன்று உடைத்து.   (1275)

बाला ने, चूड़ी-सजी, मुझसे किया दुराव ।
दुःख निवारक इक दवा, रखता है वह हाव ॥

பெரிதாற்றிப் பெட்பக் கலத்தல் அரிதாற்றி
அன்பின்மை சூழ்வ துடைத்து.   (1276)

दे कर अतिशय मिलन सुख, देना दुःख निवार ।
स्मारक भावी विरह का, औ’ निष्प्रिय व्यवहार ॥

தண்ணந் துறைவன் தணந்தமை நம்மினும்
முன்னம் உணர்ந்த வளை.   (1277)

नायक शीतल घाट का, बिछुड़ जाय यह बात ।
मेरे पहले हो गयी, इन वलयों को ज्ञात ॥

நெருநற்றுச் சென்றார்எம் காதலர் யாமும்
எழுநாளேம் மேனி பசந்து.   (1278)

कल ही गये वियुक्त कर, मेरे प्यारे नाथ ।
पीलापन तन को लिये, बीत गये दिन सात ॥

தொடிநோக்கி மென்தோளும் நோக்கி அடிநோக்கி
அஃதாண் டவள்செய் தது.   (1279)

वलय देख फिर स्कंध भी, तथा देख निज पाँव ।
यों उसने इंगित किया, साथ गमन का भाव ॥

பெண்ணினால் பெண்மை உடைத்தென்ப கண்ணினால்
காமநோய் சொல்லி இரவு.   (1280)

काम-रोग को प्रगट कर, नयनों से कर सैन ।
याचन करना तो रहा, स्त्रीत्व-लब्ध गुण स्त्रैण ॥