अंगगच्छवि- नाशा

சிறுமை நமக்கொழியச் சேட்சென்றார் உள்ளி
நறுமலர் நாணின கண்.   (1231)

प्रिय की स्मृति में जो तुझे, दुख दे गये सुदूर ।
रोते नयन सुमन निरख, लज्जित हैं बेनूर ॥

நயந்தவர் நல்காமை சொல்லுவ போலும்
பசந்து பனிவாரும் கண்.   (1232)

पीले पड़ कर जो नयन, बरस रहे हैं नीर ।
मानों कहते निठुरता, प्रिय की जो बेपीर ॥

தணந்தமை சால அறிவிப்ப போலும்
மணந்தநாள் வீங்கிய தோள்.   (1233)

जो कंधे फूल रहे, जब था प्रिय-संयोग ।
मानों करते घोषणा, अब है दुसह वियोग ॥

பணைநீங்கிப் பைந்தொடி சோரும் துணைநீங்கித்
தொல்கவின் வாடிய தோள்.   (1234)

स्वर्ण वलय जाते खिसक, कृश हैं कंधे पीन ।
प्रिय-वियोग से पूर्व की, छवि से हैं वे हीन ॥

கொடியார் கொடுமை உரைக்கும் தொடியொடு
தொல்கவின் வாடிய தோள்.   (1235)

वलय सहित सौन्दर्य भी, जिन कंधों को नष्ट ।
निष्ठुर के नैष्ठुर्य को, वे कहते हैं स्पष्ट ॥

தொடியொடு தோள்நெகிழ நோவல் அவரைக்
கொடியர் எனக்கூறல் நொந்து.   (1236)

स्कंध शिथिल चूड़ी सहित, देख मुझे जो आप ।
कहती हैं उनको निठुर, उससे पाती ताप ॥

பாடு பெறுதியோ நெஞ்சே கொடியார்க்கென்
வாடுதோட் பூசல் உரைத்து.   (1237)

यह आक्रान्दन स्कंध का, जो होता है क्षाम ।
सुना निठुर को रे हृदय, पाओ क्यों न सुनाम ॥

முயங்கிய கைகளை ஊக்கப் பசந்தது
பைந்தொடிப் பேதை நுதல்.   (1238)

आलिंगन के पाश से, शिथिल किये जब हाथ ।
तत्क्षण पीला पड गया, सुकुमारी का माथ ॥

முயக்கிடைத் தண்வளி போழப் பசப்புற்ற
பேதை பெருமழைக் கண்.   (1239)

ज़रा हवा जब घुस गयी, आलिंगन के मध्य ।
मुग्धा के पीले पड़े, शीत बड़े दृग सद्य ॥

கண்ணின் பசப்போ பருவரல் எய்தின்றே
ஒண்ணுதல் செய்தது கண்டு.   (1240)

उज्ज्वल माथे से जनित, पीलापन को देख ।
पीलापन को नेत्र के, हुआ दुःख-अतिरेक ॥