हृदय से कथन

நினைத்தொன்று சொல்லாயோ நெஞ்சே எனைத்தொன்றும்
எவ்வநோய் தீர்க்கும் மருந்து.   (1241)

रोग-शमन हित रे हृदय, जो यह हुआ असाध्य ।
क्या न कहोगे सोच कर, कोई औषध साध्य ॥

காதல் அவரிலர் ஆகநீ நோவது
பேதைமை வாழியென் நெஞ்சு.   (1242)

हृदय ! जिओ तुम, नाथ तो, करते हैं नहिं प्यार ।
पर तुम होते हो व्यथित, यह मूढ़ता अपार ॥

இருந்துள்ளி என்பரிதல் நெஞ்சே பரிந்துள்ளல்
பைதல்நோய் செய்தார்கண் இல்.   (1243)

रे दिल ! बैठे स्मरण कर, क्यों हो दुख में चूर ।
दुःख-रोग के जनक से, स्नेह-स्मरण है दूर ॥

கண்ணும் கொளச்சேறி நெஞ்சே இவையென்னைத்
தின்னும் அவர்க்காணல் உற்று.   (1244)

नेत्रों को भी ले चलो, अरे हृदय, यह जान ।
उनके दर्शन के लिये, खाते मेरी जान ॥

செற்றார் எனக்கை விடல்உண்டோ நெஞ்சேயாம்
உற்றால் உறாஅ தவர்.   (1245)

यद्यपि हम अनुरक्त हैं, वे हैं नहिं अनुरक्त ।
रे दिल, यों निर्मम समझ, हो सकते क्या त्यक्त ॥

கலந்துணர்த்தும் காதலர்க் கண்டாற் புலந்துணராய்
பொய்க்காய்வு காய்திஎன் நெஞ்சு.   (1246)

जब प्रिय देते मिलन सुख, गया नहीं तू रूठ ।
दिल, तू जो अब क्रुद्ध है, वह है केवल झूठ ॥

காமம் விடுஒன்றோ நாண்விடு நன்னெஞ்சே
யானோ பொறேன்இவ் விரண்டு.   (1247)

अरे सुदिल, तज काम को, या लज्जा को त्याग ।
मैं तो सह सकती नहीं, इन दोनों की आग ॥

பரிந்தவர் நல்காரென்று ஏங்கிப் பிரிந்தவர்
பின்செல்வாய் பேதைஎன் நெஞ்சு.   (1248)

रे मेरे दिल, यों समझ, नहीं दयार्द्र सुजान ।
बिछुड़े के पीछे लगा, चिन्ताग्रस्त अजान ॥

உள்ளத்தார் காத லவரால் உள்ளிநீ
யாருழைச் சேறியென் நெஞ்சு.   (1249)

तेरे अन्दर जब रहा, प्रियतम का आवास ।
रे दिल, उनका स्मरण कर, जावे किसके पास ॥

துன்னாத் துறந்தாரை நெஞ்சத்து உடையேமா
இன்னும் இழத்தும் கவின்.   (1250)

फिर न मिले यों तज दिया, उनको दिल में ठौर ।
देने से मैं खो रही, अभ्यन्तर छवि और ॥