लज्जा शोलता

கருமத்தால் நாணுதல் நாணுந் திருநுதல்
நல்லவர் நாணுப் பிற.   (1011)

लज्जित होना कर्म से, लज्जा रही बतौर ।
सुमुखी कुलांगना-सुलभ, लज्जा है कुछ और ॥

ஊணுடை எச்சம் உயிர்க்கெல்லாம் வேறல்ல
நாணுடைமை மாந்தர் சிறப்பு.   (1012)

अन्न वस्त्र इत्यादि हैं, सब के लिये समान ।
सज्जन की है श्रेष्ठता, होना लज्जावान ॥

ஊனைக் குறித்த உயிரெல்லாம் நாண்என்னும்
நன்மை குறித்தது சால்பு.   (1013)

सभी प्राणियों के लिये, आश्रय तो है देह ।
रखती है गुण-पूर्णता, लज्जा का शुभ गेह ॥

அணிஅன்றோ நாணுடைமை சான்றோர்க்கு அஃதின்றேல்
பிணிஅன்றோ பீடு நடை.   (1014)

भूषण महानुभाव का, क्या नहिं लज्जा-भाव ।
उसके बिन गंभीर गति, क्या नहिं रोग-तनाव ॥

பிறர்பழியும் தம்பழியும் நாணுவார் நாணுக்கு
உறைபதி என்னும் உலகு.   (1015)

लज्जित है, जो देख निज, तथा पराया दोष ।
उनको कहता है जगत, ‘यह लज्जा का कोष’ ॥

நாண்வேலி கொள்ளாது மன்னோ வியன்ஞாலம்
பேணலர் மேலா யவர்.   (1016)

लज्जा को घेरा किये, बिना सुरक्षण-योग ।
चाहेंगे नहिं श्रेष्ठ जन, विस्तृत जग का भोग ॥

நாணால் உயிரைத் துறப்பர் உயிர்ப்பொருட்டால்
நாண்துறவார் நாணாள் பவர்.   (1017)

लज्जा-पालक त्याग दें, लज्जा के हित प्राण ।
लज्जा को छोड़ें नहीं, रक्षित रखने जान ॥

பிறர்நாணத் தக்கது தான்நாணா னாயின்
அறம்நாணத் தக்கது உடைத்து.   (1018)

अन्यों को लज्जित करे, करते ऐसे कर्म ।
उससे खुद लज्जित नहीं, तो लज्जित हो धर्म ॥

குலஞ்சுடும் கொள்கை பிழைப்பின் நலஞ்சுடும்
நாணின்மை நின்றக் கடை.   (1019)

यदि चूके सिद्धान्त से, तो होगा कुल नष्ट ।
स्थाई हो निर्लज्जता, तो हों सब गुण नष्ट ॥

நாண்அகத் தில்லார் இயக்கம் மரப்பாவை
நாணால் உயிர்மருட்டி அற்று.   (1020)

कठपुथली में सूत्र से, है जीवन-आभास ।
त्यों है लज्जाहीन में, चैतन्य का निवास ॥