उनको उत्कंठा

வாளற்றுப் புற்கென்ற கண்ணும் அவர்சென்ற
நாளொற்றித் தேய்ந்த விரல்.   (1261)

छू कर गिनते विरह दिन, घिस अंगुलियाँ क्षीण ।
तथा नेत्र भी हो गये, राह देख छवि-हीन ॥

இலங்கிழாய் இன்று மறப்பின்என் தோள்மேல்
கலங்கழியும் காரிகை நீத்து.   (1262)

उज्ज्वल भूषण सज्जिते ! यदि मैं भूलूँ आज ।
गिरें बाँह से चुड़ियाँ, औ’ खोऊँ छवि-साज ॥

உரன்நசைஇ உள்ளம் துணையாகச் சென்றார்
வரல்நசைஇ இன்னும் உளேன்.   (1263)

विजय-कामना से चले, साथ लिये उत्साह ।
सो अब भी जीती रही, ‘लौटेंगे’ यों चाह ॥

கூடிய காமம் பிரிந்தார் வரவுள்ளிக்
கோடுகொ டேறுமென் நெஞ்சு.   (1264)

प्रेम सहित हैं लौटते, बिछुड़ गये जो नाथ ।
उमड़ रहा यों सोच कर, हृदय खुशी के साथ ॥

காண்கமன் கொண்கனைக் கண்ணாரக் கண்டபின்
நீங்கும்என் மென்தோள் பசப்பு.   (1265)

प्रियतम को मैं देख लूँ, आँखों से भरपूर ।
फिर पीलापन स्कंध का, हो जायेगा दूर ॥

வருகமன் கொண்கன் ஒருநாள் பருகுவன்
பைதல்நோய் எல்லாம் கெட.   (1266)

प्रिय आवें तो एक दिन,यों कर लूँ रसपान ।
जिससे पूरा ही मिटे, दुःखद रोग निदान ॥

புலப்பேன்கொல் புல்லுவேன் கொல்லோ கலப்பேன்கொல்
கண்அன்ன கேளிர் விரன்.   (1267)

नेत्र सदृश प्रिय आ मिलें, तो कर बैठूँ मान ?
या आलिंगन ही करूँ, या दोनों, हे प्राण ॥

வினைகலந்து வென்றீக வேந்தன் மனைகலந்து
மாலை அயர்கம் விருந்து.   (1268)

क्रियाशील हो युद्ध कर, राजा पावें जीत ।
सपत्नीक हम भोज दें, संध्या हित सप्रीत ॥

ஒருநாள் எழுநாள்போல் செல்லும்சேண் சென்றார்
வருநாள்வைத்து ஏங்கு பவர்க்கு.   (1269)

जिसे प्रवासी पुरुष के, प्रत्यागम का सोच ।
एक रोज़ है सात सम, लंबा होता रोज़ ॥

பெறின்என்னாம் பெற்றக்கால் என்னாம் உறினென்னாம்
உள்ளம் உடைந்துக்கக் கால்.   (1270)

प्राप्य हुई या प्राप्त ही, या हो भी संयोग ।
हृदय भग्न हो चल बसी, तो क्या हो उपयोग ॥