प्रेम- प्रशंसा

பாலொடு தேன்கலந் தற்றே பணிமொழி
வாலெயிறு ஊறிய நீர்.   (1121)

मधुर भाषिणी सुतुनु का, सित रद निःसृत नीर ।
यों लगता है मधुर वह, ज्यों मधु-मिश्रित क्षीर ॥

உடம்பொடு உயிரிடை என்னமற் றன்ன
மடந்தையொடு எம்மிடை நட்பு.   (1122)

जैसा देही देह का, होता है सम्बन्ध ।
वैसा मेरे, नारि के, बीच रहा सम्बन्ध ॥

கருமணியிற் பாவாய்நீ போதாயாம் வீழும்
திருநுதற்கு இல்லை இடம்.   (1123)

पुतली में पुतली अरी, हट जाओ यह जान ।
मेरी ललित ललाटयुत, प्यारी को नहिं स्थान ॥

வாழ்தல் உயிர்க்கன்னள் ஆயிழை சாதல்
அதற்கன்னள் நீங்கும் இடத்து.   (1124)

जीना सम है प्राण हित, बाला, जब संयोग ।
मरना सम उसके लिये, होता अगर वियोग ॥

உள்ளுவன் மன்யான் மறப்பின் மறப்பறியேன்
ஒள்ளமர்க் கண்ணாள் குணம்.   (1125)

लड़ते दृग युत बाल के, गुण यदि जाऊँ भूल ।
तब तो कर सकता स्मरण, पर जाता नहिं भूल ॥

கண்ணுள்ளின் போகார் இமைப்பின் பருகுவரா
நுண்ணியர்எம் காத லவர்.   (1126)

दृग में से निकलें नहीं, मेरे सुभग सुजान ।
झपकी लूँ तो हो न दुख, वे हैं सूक्ष्म प्राण ॥

கண்ணுள்ளார் காத லவராகக் கண்ணும்
எழுதேம் கரப்பாக்கு அறிந்து.   (1127)

यों विचार कर नयन में, करते वास सुजान ।
नहीं आंजतीं हम नयन, छिप जायेंगे जान ॥

நெஞ்சத்தார் காத லவராக வெய்துண்டல்
அஞ்சுதும் வேபாக் கறிந்து.   (1128)

यों विचार कर हृदय में, करते वास सुजान ।
खाने से डर है गरम, जल जायेंगे जान ॥

இமைப்பின் கரப்பாக்கு அறிவல் அனைத்திற்கே
ஏதிலர் என்னும்இவ் வூர்.   (1129)

झपकी लूँ तो ज्ञात है, होंगे नाथ विलीन ।
पर इससे पुरजन उन्हें, कहते प्रेम विहीन ॥

உவந்துறைவர் உள்ளத்துள் என்றும் இகந்துறைவர்
ஏதிலர் என்னும்இவ் வூர்.   (1130)

यद्यपि दिल में प्रिय सदा, रहे मज़े में लीन ।
पुरजन कहते तज चले, कहते प्रेम विहीन ॥