शिक्षा

கற்க கசடறக் கற்பவை கற்றபின்
நிற்க அதற்குத் தக.   (391)

सीख सीखने योग्य सब, भ्रम संशय बिन सीख ।
कर उसके अनुसार फिर, योग्य आचरण ठीक ॥

எண்ணென்ப ஏனை எழுத்தென்ப இவ்விரண்டும்
கண்ணென்ப வாழும் உயிர்க்கு..   (392)

अक्षर कहते है जिसे, जिसको कहते आँक ।
दोनों जीवित मनुज के, कहलाते हैं आँख ॥

கண்ணுடையர் என்பவர் கற்றோர் முகத்திரண்டு
புண்ணுடையர் கல்லா தவர்.   (393)

कहलाते हैं नेत्रयुत, जो हैं विद्यावान ।
मुख पर रखते घाव दो, जो है अपढ़ अजान ॥

உவப்பத் தலைக்கூடி உள்ளப் பிரிதல்
அனைத்தே புலவர் தொழில்.   (394)

हर्षप्रद होता मिलन, चिन्ताजनक वियोग ।
विद्वज्जन का धर्म है, ऐसा गुण-संयोग ॥

உடையார்முன் இல்லார்போல் ஏக்கற்றுங் கற்றார்
கடையரே கல்லா தவர்.   (395)

धनी समक्ष दरिद्र सम, झुक झुक हो कर दीन ।
शिक्षित बनना श्रेष्ठ है, निकृष्ट विद्याहीन ॥

தொட்டனைத் தூறும் மணற்கேணி மாந்தர்க்குக்
கற்றனைத் தூறும் அறிவு.   (396)

जितना खोदो पुलिन में, उतना नीर-निकास ।
जितना शिक्षित नर बने, उतना बुद्धि-विकास ॥

யாதானும் நாடாமால் ஊராமால் என்னொருவன்
சாந்துணையுங் கல்லாத வாறு.   (397)

अपना है विद्वान का, कोई पुर या राज ।
फिर क्यों रहता मृत्यु तक, कोई अपढ़ अकाज ॥

ஒருமைக்கண் தான்கற்ற கல்வி ஒருவற்கு
எழுமையும் ஏமாப் புடைத்து.   (398)

जो विद्या इक जन्म में, नर से पायी जाय ।
सात जन्म तक भी उसे, करती वही सहाय ॥

தாமின் புறுவது உலகின் புறக்கண்டு
காமுறுவர் கற்றறிந் தார்.   (399)

हर्ष हेतु अपने लिये, वैसे जग हित जान ।
उस विद्या में और रत, होते हैं विद्वान ॥

கேடில் விழுச்செல்வம் கல்வி யொருவற்கு
மாடல்ல மற்றை யவை.   (400)

शिक्षा-धन है मनुज हित, अक्षय और यथेष्ट ।
अन्य सभी संपत्तियाँ, होती हैं नहिं श्रेष्ठ ॥