दरिद्रता

இன்மையின் இன்னாதது யாதெனின் இன்மையின்
இன்மையே இன்னா தது.   (1041)

यदि पूछो दारिद्र्य सम, दुःखद कौन महान ।
तो दुःखद दारिद्र्य सम, दारिद्रता ही जान ॥

இன்மை எனவொரு பாவி மறுமையும்
இம்மையும் இன்றி வரும்.   (1042)

निर्धनता की पापिनी, यदि रहती है साथ ।
लोक तथा परलोक से, धोना होगा हाथ ॥

தொல்வரவும் தோலும் கெடுக்கும் தொகையாக
நல்குரவு என்னும் நசை.   (1043)

निर्धनता के नाम से, जो है आशा-पाश ।
कुलीनता, यश का करे, एक साथ ही नाश ॥

இற்பிறந்தார் கண்ணேயும் இன்மை இளிவந்த
சொற்பிறக்கும் சோர்வு தரும்.   (1044)

निर्धनता पैदा करे, कुलीन में भी ढील ।
जिसके वश वह कह उठे, हीन वचन अश्लील ॥

நல்குரவு என்னும் இடும்பையுள் பல்குரைத்
துன்பங்கள் சென்று படும்.   (1045)

निर्धनता के रूप में, जो है दुख का हाल ।
उसमें होती है उपज, कई तरह की साल ॥

நற்பொருள் நன்குணர்ந்து சொல்லினும் நல்கூர்ந்தார்
சொற்பொருள் சோர்வு படும்.   (1046)

यद्यपि अनुसंधान कर, कहे तत्व का अर्थ ।
फिर भी प्रवचन दिन का, हो जाता है व्यर्थ ॥

அறஞ்சாரா நல்குரவு ஈன்றதா யானும்
பிறன்போல நோக்கப் படும்.   (1047)

जिस दरिद्र का धर्म से, कुछ भी न अभिप्राय ।
जननी से भी अन्य सम, वह तो देखा जाय ॥

இன்றும் வருவது கொல்லோ நெருநலும்
கொன்றது போலும் நிரப்பு.   (1048)

कंगाली जो कर चुकी, कल मेरा संहार ।
अयोगी क्या आज भी, करने उसी प्रकार ॥

நெருப்பினுள் துஞ்சலும் ஆகும் நிரப்பினுள்
யாதொன்றும் கண்பாடு அரிது.   (1049)

अन्तराल में आग के, सोना भी है साध्य ।
आँख झपकना भी ज़रा, दारिद में नहिं साध्य ॥

துப்புர வில்லார் துவரத் துறவாமை
உப்பிற்கும் காடிக்கும் கூற்று.   (1050)

भोग्य-हीन रह, दिन का, लेना नहिं सन्यास ।
माँड-नमक का यम बने, करने हित है नाश ॥