आलस्यहोनता

குடியென்னும் குன்றா விளக்கம் மடியென்னும்
மாசூர மாய்ந்து கெடும்.   (601)

जब तम से आलस्य के, आच्छादित हो जाय ।
अक्षय दीप कुटुंब का, मंद मंद बुझ जाय ॥

மடியை மடியா ஒழுகல் குடியைக்
குடியாக வேண்டு பவர்.   (602)

जो चाहें निज वंश का, बना रहे उत्कर्ष ।
नाश करें आलस्य का, करते उसका धर्ष ॥

மடிமடிக் கொண்டொழுகும் பேதை பிறந்த
குடிமடியும் தன்னினும் முந்து.   (603)

गोद लिये आलस्य को, जो जड़ करे विलास ।
होगा उसके पूर्व ही, जात-वंश का नाश ॥

குடிமடிந்து குற்றம் பெருகும் மடிமடிந்து
மாண்ட உஞற்றி லவர்க்கு.   (604)

जो सुस्ती में मग्न हों, यत्न बिना सुविशेष ।
तो उनका कुल नष्ट हो, बढ़ें दोष निःशेष ॥

நெடுநீர் மறவி மடிதுயில் நான்கும்
கெடுநீரார் காமக் கலன்.   (605)

दीर्घसूत्रता, विस्मरण, सुस्ती, निद्रा-चाव ।
जो जन चाहें डूबना, चारों हैं प्रिय नाव ॥

படியுடையார் பற்றமைந்தக் கண்ணும் மடியுடையார்
மாண்பயன் எய்தல் அரிது.   (606)

सार्वभौम की श्री स्वयं, चाहे आवे पास ।
तो भी जो हैं आलसी, पावें नहिं फल ख़ास ॥

இடிபுரிந்து எள்ளுஞ்சொல் கேட்பர் மடிபுரிந்து
மாண்ட உஞற்றி லவர்.   (607)

सुस्ती-प्रिय बन, यत्न सुठि, करते नहिं जो लोग ।
डांट तथा उपहास भी, सुनते हैं वे लोग ॥

மடிமை குடிமைக்கண் தங்கின்தன் ஒன்னார்க்கு
அடிமை புகுத்தி விடும்.   (608)

घर कर ले आलस्य यदि, रह कुलीन के पास ।
उसके रिपु के वश उसे, बनायगा वह दास ॥

குடியாண்மை யுள்வந்த குற்றம் ஒருவன்
மடியாண்மை மாற்றக் கெடும்.   (609)

सुस्ती-पालन बान का, कर देगा यदि अंत ।
वंश और पुरुषार्थ में, लगे दोष हों अंत ॥

மடியிலா மன்னவன் எய்தும் அடியளந்தான்
தாஅய தெல்லாம் ஒருங்கு.   (610)

क़दम बढ़ा कर विष्णु ने, जिसे किया था व्याप्त ।
वह सब आलसहीन नृप, करे एकदम प्राप्त ॥