सौंदर्य- वर्णन

நன்னீரை வாழி அனிச்சமே நின்னினும்
மென்னீரள் யாம்வீழ் பவள்.   (1111)

रे अनिच्च तू धन्य है, तू है कोमल प्राण ।
मेरी जो है प्रियतमा, तुझसे मृदुतर जान ॥

மலர்காணின் மையாத்தி நெஞ்சே இவள்கண்
பலர்காணும் பூவொக்கும் என்று.   (1112)

बहु-जन-दृष्ट सुमन सदृश, इसके दृग को मान ।
रे मन यदि देखो सुमन, तुम हो भ्रमित अजान ॥

முறிமேனி முத்தம் முறுவல் வெறிநாற்றம்
வேலுண்கண் வேய்த்தோ ளவட்கு.   (1113)

पल्लव तन, मोती रदन, प्राकृत गंध सुगंध ।
भाला कजरारा नयन, जिसके बाँस-स्कंध ॥

காணின் குவளை கவிழ்ந்து நிலன்நோக்கும்
மாணிழை கண்ணொவ்வேம் என்று.   (1114)

कुवलय दल यदि देखता, सोच झुका कर सीस ।
इसके दृग सम हम नहीं, होती उसको खीस ॥

அனிச்சப்பூக் கால்களையாள் பெய்தாள் நுகப்பிற்கு
நல்ல படாஅ பறை.   (1115)

धारण किया अनिच्च को, बिना निकाले वृन्त ।
इसकी कटि हिन ना बजे, मंगल बाजा-वृन्द ॥

மதியும் மடந்தை முகனும் அறியா
பதியின் கலங்கிய மீன்.   (1116)

महिला मुख औ’ चन्द्र में, उड्डगण भेद न जान ।
निज कक्षा से छूट कर, होते चलायमान ॥

அறுவாய் நிறைந்த அவிர்மதிக்குப் போல
மறுவுண்டோ மாதர் முகத்து.   (1117)

क्षय पाकर फिर पूर्ण हो, शोभित रहा मयंक ।
इस नारी के वदन पर, रहता कहाँ कलंक ॥

மாதர் முகம்போல் ஒளிவிட வல்லையேல்
காதலை வாழி மதி.   (1118)

इस नारी के वदन सम, चमक सके तो चाँद ।
प्रेम-पात्र मेरा बने, चिरजीवी रह चाँद ॥

மலரன்ன கண்ணாள் முகமொத்தி யாயின்
பலர்காணத் தோன்றல் மதி.   (1119)

सुमन-नयन युत वदन सम, यदि होने की चाह ।
सबके सम्मुख चन्द्र तू चमक न बेपरवाह ॥

அனிச்சமும் அன்னத்தின் தூவியும் மாதர்
அடிக்கு நெருஞ்சிப் பழம்.   (1120)

मृदु अनिच्च का फूल औ’, हंसी का मृदु तूल ।
बाला के मृदु पाद हित, रहे गोखरू शूल ॥