मिलन- उत्कंठा

உள்ளக் களித்தலும் காண மகிழ்தலும்
கள்ளுக்கில் காமத்திற் குண்டு.   (1281)

मुद होना स्मृति मात्र से, दर्शन से उल्लास ।
ये गुण नहीं शराब में, रहे काम के पास ॥

தினைத்துணையும் ஊடாமை வேண்டும் பனைத்துணையும்
காமம் நிறைய வரின்.   (1282)

यदि आवेगा काम तो, बढ़ कर ताड़ समान ।
तिल भर भी नहिं चाहिये, करना प्रिय से मान ॥

பேணாது பெட்பவே செய்யினும் கொண்கனைக்
காணா தமையல கண்.   (1283)

यद्यपि मनमानी करें, बिन आदर की सैन ।
प्रियतम को देखे बिना, नयनों को नहिं चैन ॥

ஊடற்கண் சென்றேன்மன் தோழி அதுமறந்து
கூடற்கண் சென்றதுஎன் னெஞ்சு.   (1284)

गयी रूठने री सखी, करके मान-विचार ।
मेरा दिल वह भूल कर, मिलने को तैयार ॥

எழுதுங்கால் கோல்காணாக் கண்ணேபோல் கொண்கன்
பழிகாணேன் கண்ட இடத்து.   (1285)

कूँची को नहिं देखते, यथा आंजते अक्ष ।
उनकी भूल न देखती, जब हैं नाथ समक्ष ॥

காணுங்கால் காணேன் தவறாய காணாக்கால்
காணேன் தவறல் லவை.   (1286)

जब प्रिय को मैं देखती, नहीं देखती दोष ।
ना देखूँ तो देखती, कुछ न छोड़ कर दोष ॥

உய்த்தல் அறிந்து புனல்பாய் பவரேபோல்
பொய்த்தல் அறிந்தென் புலந்து.   (1287)

कूदे यथा प्रवाह में, बाढ़ बहाती जान ।
निष्फलता को जान कर, क्या हो करते मान ॥

இளித்தக்க இன்னா செயினும் களித்தார்க்குக்
கள்ளற்றே கள்வநின் மார்பு.   (1288)

निन्दाप्रद दुख क्यों न दे, मद्यप को ज्यों पान ।
त्यों है, वंचक रे, हमें, तेरी छाती जान ॥

மலரினும் மெல்லிது காமம் சிலர்அதன்
செவ்வி தலைப்படு வார்.   (1289)

मृदुतर हो कर सुमन से, जो रहता है काम ।
बिरले जन को प्राप्त है, उसका शुभ परिणाम ॥

கண்ணின் துனித்தே கலங்கினாள் புல்லுதல்
என்னினும் தான்விதுப் புற்று.   (1290)

उत्कंठित मुझसे अधिक, रही मिलन हित बाल ।
मान दिखा कर नयन से, गले लगी तत्काल ॥