जताना

அலரெழ ஆருயிர் நிற்கும் அதனைப்
பலரறியார் பாக்கியத் தால்.   (1141)

प्रचलन हुआ प्रवाद का, सो टिकता प्रिय प्राण ।
इसका मेरे भाग्य से, लोगों को नहिं ज्ञान ॥

மலரன்ன கண்ணாள் அருமை அறியாது
அலரெமக்கு ஈந்ததிவ் வூர்.   (1142)

सुमन-नयन-युत बाल की, दुर्लभता नहिं जान ।
इस पुर ने अफवाह तो, की है मुझे प्रदान ॥

உறாஅதோ ஊரறிந்த கெளவை அதனைப்
பெறாஅது பெற்றன்ன நீர்த்து.   (1143)

क्या मेरे लायक नहीं, पुरजन-ज्ञात प्रवाह ।
प्राप्त किये बिन मिलन तो, हुई प्राप्त सी बात ॥

கவ்வையால் கவ்விது காமம் அதுவின்றேல்
தவ்வென்னும் தன்மை இழந்து.   (1144)

पुरजन के अपवाद से, बढ़ जाता है काम ।
घट जायेगा अन्यथा, खो कर निज गुण-नाम ॥

களித்தொறும் கள்ளுண்டல் வேட்டற்றால் காமம்
வெளிப்படுந் தோறும் இனிது.   (1145)

होते होते मस्त ज्यों, प्रिय लगता मधु-पान ।
हो हो प्रकट प्रवाद से, मधुर काम की बान ॥

கண்டது மன்னும் ஒருநாள் அலர்மன்னும்
திங்களைப் பாம்புகொண் டற்று.   (1146)

प्रिय से केवल एक दिन, हुई मिलन की बात ।
लेकिन चन्द्रग्रहण सम, व्यापक हुआ प्रवाद ॥

ஊரவர் கெளவை எருவாக அன்னைசொல்
நீராக நீளும்இந் நோய்.   (1147)

पुरजन-निंदा खाद है, माँ का कटु वच नीर ।
इनसे पोषित रोग यह, बढ़ता रहा अधीर ॥

நெய்யால் எரிநுதுப்பேம் என்றற்றால் கெளவையால்
காமம் நுதுப்பேம் எனல்.   (1148)

काम-शमन की सोचना, कर अपवाद प्रचार ।
अग्नि-शमन घी डाल कर, करना सदृश विचार ॥

அலர்நாண ஒல்வதோ அஞ்சலோம்பு என்றார்
பலர்நாண நீத்தக் கடை.   (1149)

अपवादें से क्यों डरूँ, जब कर अभय प्रदान ।
सब को लज्जित कर गये, छोड़ मुझे प्रिय प्राण ॥

தாம்வேண்டின் நல்குவர் காதலர் யாம்வேண்டும்
கெளவை எடுக்கும்இவ் வூர்.   (1150)

निज वांछित अपवाद का, पुर कर रहा प्रचार ।
चाहूँ तो प्रिय नाथ भी, कर देंगे उपकार ॥