सभा में निर्भीकता

வகையறிந்து வல்லவை வாய்சோரார் சொல்லின்
தொகையறிந்த தூய்மை யவர்.   (721)

शब्द शक्ति के ज्ञानयुत, जो जन हैं निर्दोष ।
प्राज्ञ-सभा में ढब समझ, करें न शब्द सदोष ॥

கற்றாருள் கற்றார் எனப்படுவர் கற்றார்முன்
கற்ற செலச்சொல்லு வார்.   (722)

जो प्रभावकर ढ़ंग से, आर्जित शास्त्र-ज्ञान ।
प्रगटे विज्ञ-समझ, वह, विज्ञों में विद्वान ॥

பகையகத்துச் சாவார் எளியர் அரியர்
அவையகத்து அஞ்சா தவர்.   (723)

शत्रु-मध्य मरते निडर, मिलते सुलभ अनेक ।
सभा-मध्य भाषण निडर, करते दुर्लभ एक ॥

கற்றார்முன் கற்ற செலச்சொல்லித் தாம்கற்ற
மிக்காருள் மிக்க கொளல்.   (724)

विज्ञ-मध्य स्वज्ञान की, कर प्रभावकर बात ।
अपने से भी विज्ञ से, सीखो विशेष बात ॥

ஆற்றின் அளவறிந்து கற்க அவையஞ்சா
மாற்றங் கொடுத்தற் பொருட்டு.   (725)

सभा-मध्य निर्भीक हो, उत्तर देने ठीक ।
शब्द-शास्त्र, फिर ध्यान से, तर्क-शास्त्र भी सीख ॥

வாளொடென் வன்கண்ணர் அல்லார்க்கு நூலொடென்
நுண்ணவை அஞ்சு பவர்க்கு.   (726)

निडर नहीं हैं जो उन्हें, खाँडे से क्या काम ।
सभा-भीरु जो हैं उन्हें, पोथी से क्या काम ॥

பகையகத்துப் பேடிகை ஒள்வாள் அவையகத்து
அஞ்சு மவன்கற்ற நூல்.   (727)

सभा-भीरु को प्राप्त है, जो भी शास्त्र-ज्ञान ।
कायर-कर रण-भूमि में, तीक्षण खड्ग समान ॥

பல்லவை கற்றும் பயமிலரே நல்லவையுள்
நன்கு செலச்சொல்லா தார்.   (728)

रह कर भी बहु शास्त्रविद, है ही नहिं उपयोग ।
विज्ञ-सभा पर असर कर, कह न सके जो लोग ॥

கல்லா தவரின் கடையென்ப கற்றறிந்தும்
நல்லா ரவையஞ்சு வார்.   (729)

जो होते भयभीत हैं, विज्ञ-सभा के बीच ।
रखते शास्त्रज्ञान भी, अनपढ़ से हैं नीच ॥

உளரெனினும் இல்லாரொடு ஒப்பர் களன்அஞ்சிக்
கற்ற செலச்சொல்லா தார்.   (730)

जो प्रभावकर ढ़ंग से, कह न सका निज ज्ञान ।
सभा-भीरु वह मृतक सम, यद्यपि है सप्राण ॥