मान

இன்றி அமையாச் சிறப்பின ஆயினும்
குன்ற வருப விடல்.   (961)

जीवित रहने के लिये, यद्यपि है अनिवार्य ।
फिर भी जो कुल-हानिकर, तज देना वे कार्य ॥

சீரினும் சீரல்ல செய்யாரே சீரொடு
பேராண்மை வேண்டு பவர்.   (962)

जो हैं पाना चाहते, कीर्ति सहित सम्मान ।
यश-हित भी करते नहीं, जो कुल-हित अपमान ॥

பெருக்கத்து வேண்டும் பணிதல் சிறிய
சுருக்கத்து வேண்டும் உயர்வு.   (963)

सविनय रहना चाहिये, रहते अति संपन्न ।
तन कर रहना चाहिये, रहते बड़ा विपन्न ॥

தலையின் இழிந்த மயிரனையர் மாந்தர்
நிலையின் இழிந்தக் கடை.   (964)

गिरते हैं जब छोड़कर, निज सम्मानित स्थान ।
नर बनते हैं यों गिरे, सिर से बाल समान ॥

குன்றின் அனையாரும் குன்றுவர் குன்றுவ
குன்றி அனைய செயின்.   (965)

अल्प घुंघची मात्र भी, करते जो दुष्काम ।
गिरि सम ऊँचे क्यों न हों, होते हैं बदनाम ॥

புகழ்இன்றால் புத்தேள்நாட்டு உய்யாதால் என்மற்று
இகழ்வார்பின் சென்று நிலை.   (966)

न तो कीर्ति की प्राप्ति हो, न हो स्वर्ग भी प्राप्त ।
निंदक का अनुचर बना, तो औ’ क्या हो प्राप्त ॥

ஒட்டார்பின் சென்றொருவன் வாழ்தலின் அந்நிலையே
கெட்டான் எனப்படுதல் நன்று.   (967)

निंदक का अनुचर बने, जीवन से भी हेय ।
‘ज्यों का त्यों रह मर गया’, कहलाना है श्रेय ॥

மருந்தோமற்று ஊன்ஓம்பும் வாழ்க்கை பெருந்தகைமை
பீடழிய வந்த இடத்து.   (968)

नाश काल में मान के, जो कुलीनता-सत्व ।
तन-रक्षित-जीवन भला, क्या देगा अमरत्व ॥

மயிர்நீப்பின் வாழாக் கவரிமா அன்னார்
உயிர்நீப்பர் மானம் வரின்.   (969)

बाल कटा तो त्याग दे, चमरी-मृग निज प्राण ।
उसके सम नर प्राण दें, रक्षा-हित निज मान ॥

இளிவரின் வாழாத மானம் உடையார்
ஒளிதொழுது ஏத்தும் உலகு.   (970)

जो मानी जीते नहीं, होने पर अपमान ।
उनके यश को पूज कर, लोक करे गुण-गान ॥