धैर्य- भंग

காமக் கணிச்சி உடைக்கும் நிறையென்னும்
நாணுத்தாழ் வீழ்த்த கதவு.   (1251)

लाज-चटखनी युक्त है, मनोधैर्य का द्वार ।
खंडन करना है उसे, यह जो काम-कुठार ॥

காமம் எனவொன்றோ கண்ணின்றென் நெஞ்சத்தை
யாமத்தும் ஆளும் தொழில்.   (1252)

काम एक निर्दय रहा, जो दिल पर कर राज ।
अर्द्ध रात्रि के समय भी, करवाता है काज ॥

மறைப்பேன்மன் காமத்தை யானோ குறிப்பின்றித்
தும்மல்போல் தோன்றி விடும்.   (1253)

काम छिपाने यत्न तो, मैं करती हूँ जान ।
प्रकट हुआ निर्देश बिन, वह तो छींक समान ॥

நிறையுடையேன் என்பேன்மன் யானோஎன் காமம்
மறையிறந்து மன்று படும்.   (1254)

कहती थी ‘हूँ धृतिमती’, पर मम काम अपार ।
प्रकट सभी पर अब हुआ, गोपनीयता पार ॥

செற்றார்பின் செல்லாப் பெருந்தகைமை காமநோய்
உற்றார் அறிவதொன்று அன்று.   (1255)

उनके पीछे जा लगें, जो तज गये सुजान ।
काम-रोगिणी को नहीं, इस बहुमति का ज्ञान ॥

செற்றவர் பின்சேறல் வேண்டி அளித்தரோ
எற்றென்னை உற்ற துயர்.   (1256)

उनके पीछे लग रहूँ, चले गये जो त्याग ।
काम-रोग को यों दिया, यह मेरा बड़भाग ॥

நாணென ஒன்றோ அறியலம் காமத்தால்
பேணியார் பெட்ப செயின்.   (1257)

करते ये प्रिय नाथ जब, कामेच्छित सब काज ।
तब यह ज्ञात न था हमें, एक वस्तु है लाज ॥

பன்மாயக் கள்வன் பணிமொழி அன்றோநம்
பெண்மை உடைக்கும் படை.   (1258)

बहुमायामय चोर के, जो हैं नयमय बैन ।
मेरी धृति को तोड़ने, क्या होते नहिं सैन ॥

புலப்பல் எனச்சென்றேன் புல்லினேன் நெஞ்சம்
கலத்தல் உறுவது கண்டு.   (1259)

चली गई मैं रूठने, किन्तु हृदय को देख ।
वह प्रवृत्त है मिलन हित, गले लगी, हो एक ॥

நிணந்தீயில் இட்டன்ன நெஞ்சினார்க்கு உண்டோ
புணர்ந்தூடி நிற்பேம் எனல்.   (1260)

अग्नि-दत्त मज्जा यथा, जिनका दिल द्रवमान ।
उनको प्रिय के पास रह, क्या संभव है मान ॥