क्रूर शासन

கொலைமேற்கொண் டாரிற் கொடிதே அலைமேற்கொண்டு
அல்லவை செய்தொழுகும் வேந்து.   (551)

हत्यारे से भी अधिक, वह राजा है क्रूर ।
जो जन को हैरान कर, करे पाप भरपूर ॥

வேலொடு நின்றான் இடுவென் றதுபோலும்
கோலொடு நின்றான் இரவு.   (552)

भाला ले कर हो खड़े, डाकू की ज्यों माँग ।
राजदण्डयुत की रही, त्यों भिक्षा की माँग ॥

நாடொறும் நாடி முறைசெய்யா மன்னவன்
நாடொறும் நாடு கெடும்.   (553)

दिन दिन नीति विचार कर, नृप न करे यदि राज ।
ह्रासोन्मुख होता रहे, दिन दिन उसका राज ॥

கூழுங் குடியும் ஒருங்கிழக்கும் கோல்கோடிச்
சூழாது செய்யும் அரசு.   (554)

नीतिहीन शासन करे, बिन सोचे नरनाथ ।
तो वह प्रजा व वित्त को, खो बैठे इक साथ ॥

அல்லற்பட்டு ஆற்றாது அழுதகண் ணீரன்றே
செல்வத்தைத் தேய்க்கும் படை.   (555)

उतपीड़ित जन रो पड़े, जब वेदना अपार ।
श्री का नाशक शास्त्र है, क्या न नेत्र-जल-धार ॥

மன்னர்க்கு மன்னுதல் செங்கோன்மை அஃதின்றேல்
மன்னாவாம் மன்னர்க் கொளி.   (556)

नीतिपूर्ण शासन रखे, नृप का वश चिरकाल ।
नीति न हो तो, भूप का, यश न रहे सब काल ॥

துளியின்மை ஞாலத்திற்கு எற்றற்றே வேந்தன்
அளியின்மை வாழும் உயிர்க்கு.   (557)

अनावृष्टि से दुःख जो, पाती भूमि अतीव ।
दयावृष्टि बिन भूप की, पाते हैं सब जिव ॥

இன்மையின் இன்னாது உடைமை முறைசெய்யா
மன்னவன் கோற்கீழ்ப் படின்.   (558)

अति दुःखद है सधनता, रहने से धनहीन ।
यदि अन्यायी राज के, रहना पड़े अधीन ॥

முறைகோடி மன்னவன் செய்யின் உறைகோடி
ஒல்லாது வானம் பெயல்.   (559)

यदि राजा शासन करे, राजधर्म से चूक ।
पानी बरसेगा नहीं, ऋतु में बादल चूक ॥

ஆபயன் குன்றும் அறுதொழிலோர் நூல்மறப்பர்
காவலன் காவான் எனின்.   (560)

षटकर्मी को स्मृति नहीं, दूध न देगी गाय ।
यदि जन-रक्षक भूप से, रक्षा की नहिं जाय ॥