आज के कुरल:
अर्थ > विविध > सर्वगुणपूर्णता
சான்றவர் சான்றாண்மை குன்றின் இருநிலந்தான்
தாங்காது மன்னோ பொறை.   (990)
घटता है गुण-पूर्ण का, यदि गुण का आगार ।
तो विस्तृत संसार भी, ढो सकता नहिं भार ॥

मुख पृष्ठ  |  इतिहास  |  श्रेय  |  समाचार कक्ष  |  हमें जाने  |  संपर्क करें  |  गोपनीयता



अवीकृत करना.  © 2014 திருக்குறள்.net.  द्वारा संचालित pluggablez.